गेठरी (Bundle)

गेठरी (गठरी )
छत पे टंगी।
अक्सर ख्यालो के गट्टे की तरह ,
चुप चाप जतन से बंधा ,
कई कोश कि यात्रा के बाद
सहज के रक्खा
आँगन में।
पिछले कई दिनों में
यहाँ ,
आँगनो में दिखता हैं, मुझे
अनायास बस सोचता हूँ
कई समद्र पार भी तुमने
बांध रक्खी है ये गेठरी
और
असाढ़ के महीने में ,
मचान पे बंधा आम
और चूरे से भरी
गेठरी।

१५ असाढ़ २०१८

Performance in  Stay Foolish art festival 2018

Jeounju Korea

https://stayfoolishro.modoo.at/

Duration – 01:15:00

In collaboration with public

B_ajay_sharma_gethari_2018_019B_ajay_sharma_gethari_2018_07B_ajay_sharma_gethari_2018_08B_ajay_sharma_gethari_2018_017B_ajay_sharma_gethari_2018_0118

B_ajay_sharma_gethari_2018_010B_ajay_sharma_gethari_2018_11

B_ajay_sharma_gethari_2018_021.jpgB_ajay_sharma_gethari_2018_012B_ajay_sharma_gethari_2018_014B_ajay_sharma_gethari_2018_018B_ajay_sharma_gethari_2018_015